सच्चिदानंद विचार 21-06-2020

!!जय माँ भवानी!! श्री वराहमिहिर जी द्वारा बृहतसंहिता में लिखा गया है कि- मिथुने प्रवरागमना नृपा नृपमात्रा बलिन: कलाविद:! यमुनातटजा: सबाह्लिका मत्स्या: सुह्यजनै: समन्वित:!! इस श्लोक का अर्थ यह है…

पढ़ना जारी रखें सच्चिदानंद विचार 21-06-2020

सच्चिदानंद विचार 20-06-2020

!!जय माँ भवानी!! नीलद्युति शूलधरं किरीटिनम् गृध्रस्थितं त्रासकरं धनुर्धरम्! चतुर्भुजम् सूर्यसुतं प्रशान्तं वन्दे सद् अभीष्टकरं वरेण्यम्!! नीलान्जनसमाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम, छाया मार्तण्ड सं भभूतं तं नमामि शनैश्चरम्! नमस्ते कोणसंस्थाय, पिंगलाय नमोस्तुते!!…

पढ़ना जारी रखें सच्चिदानंद विचार 20-06-2020